ये IPO बना ‘ब्‍लॉकबस्‍टर’, पैसा लगाने वालों की दोगुनी हो सकती है दौलत, झुनझुनवाला फैमिली के पास 3.91 करोड़ शेयर

Cryptocurrency : ज्यादा तेजी से पैसे कमाने हैं तो जानिए क्यों डिजिटल संपत्ति में निवेश बेहतर रहेगा

Cryptocurrency : ज्यादा तेजी से पैसे कमाने हैं तो जानिए क्यों डिजिटल संपत्ति में निवेश बेहतर रहेगा

Cryptocurrency : क्रिप्टो में निवेश करना कितना फायदेमंद है, ये सवाल बना हुआ है.

Cryptocurrency अपने शुरुआती सालों में आलोचनाओं, सवालों और मजाक का विषय भी बनी थी, लेकिन आज यह एक ट्रेडिंग और निवेश का पॉपुलर माध्यम बन चुकी है. ये बहुत कम वक्त में हुआ है. जब 2008 में आर्थिक मंदी ने दुनिया को अपने चपेट में ले लिया था, उसके बाद सबसे पुरानी क्रिप्टोकरेंसी Bitcoin जनवरी, 2009 में लॉन्चिंग हुई थी. बिटकॉइन को आज जितनी पॉपुलैरिटी हासिल करने और सबसे ऊंची हैसियत वाली डिजिटल संपत्ति बनने में 10 साल लग गए. पिछले कुछ सालों में इसकी उछाल को देखते हुए कई दूसरी क्रिप्टो कॉइन्स का जन्म हुआ है. इनकी बढ़ती संख्या के पीछे एक बड़ी वजह इनके निवेश से मिलने वाला जबरदस्त रिटर्न है. कोई हैरानी की बात नहीं है कि आज लाखों की संख्या में लोग क्रिप्टो बाजार का हिस्सा बन रहे हैं.

यह भी पढ़ें

लेकिन एक बड़ा सवाल जो बना ही हुआ है, वो है कि क्या आपको डिजिटल असेट यानी डिजिटल संपत्ति में निवेश करना चाहिए? सीधा-सीधा पूछें तो क्या आपको बिटकॉइन या क्रिप्टो कॉइन में निवेश करना चाहिए? ये कॉइन्स बहुत ही वॉलेटाइल यानी अस्थिर होती हैं, जितनी जल्दी चढ़ती हैं, उतनी ही जल्दी गिर जाती हैं. और चूंकि क्रिप्टो एक ऐसी चीज है जो आपकी ऑनलाइन संपत्ति या डिजिटल संपत्ति बनती है, इसमें लेन-देन, स्टोरेज वगैरह सबकुछ ऑनलाइन होता है, तो फिर ऐसे क्या सेफ्टी Bitcoin में निवेश क्यों करना चाहिए फीचर्स हैं, जिनसे निवेशकों की संपत्ति सुरक्षित रह सकती है?

हां यह सही है कि अधिकतर कॉइन्स अस्थिर होती हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि जैसे-जैसे इन कॉइन्स की लोकप्रियता बढ़ेगी, उपयोगिता बढ़ेगी, लोग इन्हें स्वीकार करने लगेंगे, वैसे-वैसे क्रिप्टो बाजार में स्थिरता आ जाएगी. लेकिन सुरक्षा का क्या? क्रिप्टोकरेंसी का पूरा इकोसिस्टम ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करता है, जोकि काफी नया है और अधिकतर लोग इस तकनीक से परिचित नहीं हैं.

1. क्रिप्टो का बढ़ता बाजार

पिछले दो सालों में क्रिप्टोकरेंसी का बाजार जबरदस्त तेजी के साथ बढ़ा है. इसे ऐसे समझिए कि 2019 के अंत तक बिटकॉइन की कीमत 7,000 डॉलर यानी लगभग 5.18 लाख के आसपास थी, लेकिन आज इसकी कीमत $45,000 डॉलर यानी लगभग 33.34 लाख से ऊपर जा चुकी है. यहां तक कि इस साल फरवरी और अप्रैल में यह 60,000 डॉलर यानी लगभग 44.46 लाख से ऊपर पहुंच गई थी.

बस क्रिप्टोकरेंसी ही नहीं, महामारी के बाद पूरी दुनिया में ही अधिकतर क्षेत्रों में डिजिटल इकोसिस्टम को अपनाया जा रहा है. क्रिप्टोकरेंसी के साथ-साथ NFTs यानी नॉन-फंजिबल टोकन्स का भी चलन तेज है. इसके साथ ही क्रिप्टो कॉइन्स में निवेश करने के साथ-साथ टेक में दिलचस्पी रखने वाले अब इन कॉइन्स को जेनरेट करने की प्रक्रिया यानी माइनिंग में भी हिस्सा ले रहे हैं और माइनिंग के जरिए अच्छा पैसा बना रहे हैं.

3. जबरदस्त रिटर्न

क्रिप्टोकरेंसी का आकर्षण इसलिए भी सबसे ज्यादा माना जा सकता है क्योंकि रियल्टी सेक्टर की ही तरह इसमें भी निवेश आपको जबरदस्त रिटर्न देता है. हालांकि, रियल्टी सेक्टर की तरह जरूरी नहीं है कि क्रिप्टो में आप कोई बहुत बड़ा निवेश ही करें. आप एक छोटे निवेश से ही शुरू कर सकते हैं. वहीं, छोटे-छोटे अमाउंट में कई हिस्सों में निवेश कर सकते हैं.

डिजिटल संपत्ति में निवेश करके या अपना ऑनलाइन बिजनेस शुरू करके पैसे कमाना एक अच्छा विकल्प है. आप अपने काम और रेगुलर निवेश के साथ-साथ इनसे अलग से पैसा कमा सकते हैं.

Video : कॉफी एंड क्रिप्टो : क्रिप्टोकरेंसी में अच्छा क्या है? किस में कर सकते हैं ट्रेडिंग?

क्या आप भी Bitcoin में निवेश करने का बना रहे प्लान, तो जानिए यहां क्या करें.

टेस्‍ला की ओर से निवेश की घोषणा के बाद क्रिप्‍टोकरेंसी बिटक्‍वाइन में हर दिन उछाल दर्ज किया जा रहा है.

टेस्‍ला की ओर से निवेश की घोषणा के बाद क्रिप्‍टोकरेंसी बिटक्‍वाइन में हर दिन उछाल दर्ज किया जा रहा है.

क्या आप भी बिटकॉइन में पैसा लगाने का सोच रहे हैं. अगर ऐसा है तो उससे पहले आप इसके बारे में अच्छे से जान लीजिए कि आखिर . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : February 09, 2021, 13:42 IST

नई दिल्ली: क्या आप भी बिटकॉइन (Bitcoin) में पैसा लगाने का सोच रहे हैं… अगर ऐसा है तो उससे पहले आप इसके बारे में अच्छे से जान लीजिए कि आखिर ये बिटकॉइन क्या है और इसमें कैसे ट्रेडिंग होती है. इन दिनों ये दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है. इसके रिटर्न ने निवेशकों को हैरान कर दिया है, लेकिन इसमें जिस तरह का रिटर्न मिलता है रिस्क भी उसी हिसाब से होता है.

साल 2017 में, दिल्ली के 37 साल के राहुल मिश्रा ने अपने कार्यालय के सहयोगियों को देखकर बिटकॉइन में निवेश किया. बता दें उस वर्ष की शुरुआत में बिटकॉइन की कीमत पहले ही 65,000 रुपये से बढ़कर 3.61 लाख रुपये हो गई थी. हर महीने, वह 25,000 रुपये का निवेश करते रहे. उन्होंने अपनी चल रही म्यूचुअल फंड व्यवस्थित निवेश योजनाओं को बिटकॉइन में बदल दिया था.

Investment in Crypto Currencies: BitCoin में निवेश का स्टेपवाइज प्रॉसेस, इन तीन चार्जेज के बारे में भी जानकारी है जरूरी

Investment in Crypto Currencies: BitCoin में निवेश का स्टेपवाइज प्रॉसेस, इन तीन चार्जेज के बारे में भी जानकारी है जरूरी

दुनिया भर में निवेशकों के बीच बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टो करेंसी में निवेश को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है.

Investing in Crypto Currencies: भारत समेत दुनिया भर में निवेशकों के बीच बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टो करेंसी में निवेश को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है. पिछले कुछ वर्षों में इसने निवेशकों को शानदार रिटर्न दिया है. क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी है जिसे कंप्यूटर पर जटिल समीकरणों को हल कर माइन किया जाता है. इसे माइन करने वाले यानी माइनर्स को रिवार्ड के तौर पर क्रिप्टो करेंसी मिलती है लेकिन जिन्हें तकनीकी समझ नहीं है, वे भी क्रिप्टो हासिल कर सकते हैं. जिस प्रकार कंपनी के शेयरों की बीएसई और एनएसई जैसे एक्सचेंजों पर खरीद-बिक्री होती है, वैसे ही क्रिप्टो एक्सचेंजों पर बिटक्वाइन जैसे क्रिप्टो की खरीद-बिक्री होती है यानी कि आपको अगर बिटक्वाइन में निवेश करना है तो किसी एक्सचेंज पर जाकर आसानी से इसमें पैसे लगा सकते हैं.

इस प्रकार कर सकते हैं क्रिप्टो में निवेश

क्रिप्टों में निवेश के लिए वजीरएक्स (WazirX), क्वाइनडेक्स (Coindex), जेबपे Zebpay, क्वाइनस्विच कुबेर (Coin Switch Kuber) और यूनोकॉइन UnoCoin जैसे एक्सचेंज हैं. क्रिप्टो में निवेश के लिए पहले आपको एक्सचेंज की साइट पर जाकर पर्सनल डिटेल्स के जरिए रजिस्ट्रेशन करना होगा.

Crorepati Stock: 1 लाख के बन गए 30 लाख, 10 साल में 30 गुना बढ़ा पैसा, इस केमिकल शेयर ने बनाया करोड़पति

Bikaji Foods के IPO में पैसा लगाने वालों की भर रही है जेब, लगातार दूसरे दिन 10% अपर सर्किट, रिकॉर्ड हाई पर शेयर

क्रिप्टो ट्रेडिंग पर ये हैं चार्जेज

  • एक्सचेंज फीस: क्रिप्टो खरीद या बिक्री ऑर्डर को पूरा करने के लिए एक्सचेंज फीस चुकानी होती है. भारत में अधिकतर क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज का फिक्स्ड फीस मॉडल है, लेकिन ट्रांजैक्शन की फाइनल कॉस्ट उस प्लेटफॉर्म पर निर्भर होती है जिस पर ट्रांजैक्शन पूरा हुआ है. ऐसे में इसे लेकर बेहतर रिसर्च करनी चाहिए कि कौन सा क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज सबसे कम ट्रांजैक्शन फीस ले रहा है. फिक्स्ड फीस मॉडल के अलावा क्रिप्टो एक्सचेंज में मेकर-टेकर फी मॉडल भी है. क्रिप्टो करेंसी बेचने वाले को मेकर कहते हैं और इसे खरीदने वाले को टेकर कहते हैं. इस मॉडल के तहत ट्रेडिंग एक्टिविटी के हिसाब से फीस चुकानी होती है.
  • नेटवर्क फीस: क्रिप्टोकरेंसी माइन करने वालों को नेटवर्क फीस चुकाई जाती है. ये माइनर्स शक्तिशाली कंप्यूटर्स के जरिए किसी ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करते हैं और ब्लॉकचेन में जोड़ते हैं. एक्सचेंज का नेटवर्क फीस पर सीधा नियंत्रण नहीं होता है. अगर नेटवर्क पर भीड़ बढ़ती है यानी अधिक ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करना होता है तो फीस बढ़ जाती है. आमतौर पर यूजर्स को थर्ड पार्टी वॉलेट का प्रयोग करते समय ट्रांजैक्शन फीस को पहले से ही सेट करने की छूट होती है. लेकिन एक्सचेंज पर इसे ऑटोमैटिक एक्सचेंज द्वारा ही सेट किया जाता है ताकि ट्रांसफर में कोई देरी न हो. जो यूजर्स अधिक फीस चुकाने के लिए तैयार हैं, उनका ट्रांजैक्शन जल्द पूरा हो जाता है और जिन्होंने फीस की लिमिट कम रखी है, उनके ट्रांजैक्शन पूरा होने में कुछ समय लग सकता है. माइनर्स को इलेक्ट्रिसिटी कॉस्ट और प्रोसेसिंग पॉवर के लिए यह फीस दी जाती है.
  • वॉलेट फीस: क्रिप्टो करेंसी को ऑनलाइन बैंक खाते के समान एक डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है. अधिकतर वॉलेट में क्रिप्टो करेंसी के डिपॉजिट और स्टोरेज पर कोई फीस नहीं ली जाती है, लेकिन इसे निकालने या कहीं भेजने पर फीस चुकानी होती है. यह मूल रूप से नेटवर्क फीस है. अधिकतर एक्सचेंज इन-बिल्ट वॉलेट की सुविधा देते हैं. क्रिप्टो वॉलेट्स सिस्टमैटिक क्रिप्टो करेंसी खरीदने का विकल्प देते हैं और इसके इंटीग्रेटेड मर्चेंट गेटवे के जरिए स्मार्टफोन व डीटीएस सर्विसेज को रिचार्ज कराया जा सकता है.

Crypto Investing: BitCoin में निवेश से पहले इन बातों का रखें ख्याल, एक्सपर्ट्स ने वेबिनार के जरिए निवेशकों को दिए खास टिप्स

Crypto Investing: BitCoin में निवेश से पहले इन बातों का रखें ख्याल, एक्सपर्ट्स ने वेबिनार के जरिए निवेशकों को दिए खास टिप्स

Crypto Investing: बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टोकरेंसीज को लेकर अभी नीतिगत अनिश्चितता है लेकिन इसमें निवेश को लेकर आकर्षण बना हुआ है. ऐसे में निवेश को लेकर कुछ बातों पर विचार करना जरूरी है.

Crypto Investing: बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टोकरेंसीज को Bitcoin में निवेश क्यों करना चाहिए लेकर अभी नीतिगत अनिश्चितता है लेकिन इसमें निवेश को लेकर आकर्षण बना हुआ है. ऐसे में निवेश को लेकर कुछ बातों पर विचार करना जरूरी है जैसे कि इसे अपने पोर्टफोलियो में कितना रखना चाहिए. क्रिप्टो में निवेश से जुड़े सवालों के जवाब के लिए फाइनेंशियलएक्सप्रेसडॉटकॉम ने ‘क्रिप्टो ऐज ऐन एसेट क्लास’ विषय पर 22 दिसंबर को ‘मैनेज योर मनी’ वेबिनार आयोजित किया था जिसमें एक्सपर्ट्स ने सुझाव दिया कि निवेशकों को मौजूदा हालात में अपने पोर्टफोलियो में क्रिप्टो का हिस्सा अधिकतम 5-10 फीसदी रखना चाहिए. उन्होंने निवेशकों को क्रिप्टो में निवेश पर पूरे पैसे डूबने के रिस्क पर ही निवेश की सलाह दी.

क्रिप्टो नीति आने के बाद निवेश करने की सलाह

क्रिप्टोकरेंसी को पोर्टफोलियो में शामिल किए जाने के सवाल पर आईआईएफएल के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट व स्ट्रेटजी प्रमुक यश उपाध्याय ने कहा कि भारत सरकार और बाजार नियामक सेबी इसे रेगुलेट करने लगें तो निवेशकों के एक एसेट क्लास के रूप में क्रिप्टो में जरूर निवेश करना चाहिए. यश के मुताबिक पोर्टफोलियो में 5-10 फीसदी क्रिप्टो का होना चाहिए.

  • यश के मुताबिक क्रिप्टो में पहली बार निवेश करते समय ब्लू चिप क्रिप्टो एसेट्स पर विचार करना चाहिए. इनका मार्केट कैप अधिक होता है यानी कि जब निवेशक अपनी क्रिप्टो होल्डिंग की बिक्री करेंगे तो उन्हें आसानी से इसके ग्राहक मिल जाएंगे.
  • निवेशकों को रेडिट, ट्विटर जैसे सोशल मीडिया और अन्य इंफ्लूएंशर की सलाह के आधार पर क्रिप्टो की खरीद-बिक्री से जुड़ा फैसला नहीं लेना चाहिए.
  • क्वाइनडीसीएक्स के एग्जेक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट (ग्रोथ एंड स्ट्रेटजी) मीनल ठुकराल के मुताबिक निवेश से पहले इसका जवाब खोजना चाहिए कि क्रिप्टो में निवेश क्यों करना है. अगर तुरंत मुनाफे के लिए निवेश करना चाहते हैं तो नुकसान होने की आशंका बढ़ जाती है. मीनल ने निवेशकों को क्रिप्टो में लंबे समय के निवेश की सलाह दी है और शुरुआत में 2-5 फीसदी पूंजी के साथ शुरुआत की सलाह दी है और फिर नियमित तौर Bitcoin में निवेश क्यों करना चाहिए पर निवेश करें.
  • क्रिप्टो में निवेश के लिए भरोसेमंद एक्सचेंज चुनें, मीनल के मुताबिक भरोसेमेंद एक्सचेंज जांच-परख के बाद ही अपने प्लेटफॉर्म पर किसी क्वाइन को लिस्ट करते हैं जिससे निवेशकों का रिस्क कम होता है.
  • निवेशकों को क्रिप्टो एसेट में उपलब्ध टोकन की सीमा को भी देखना चाहिए. जैसे कि बिटक्वाइन जैसी कई क्रिप्टो एसेट्स की सप्लाई लिमिटेड है लेकिन Dogecoin की कोई अधिकतम सीमा नहीं है.
  • निवेश से पहले निवेशकों को क्वाइन सप्लाई के अलावा इसकी क्रेडिबिलिटी और इसके संस्थापकों पर भी विचार करना चाहिए.

क्रिप्टो का क्या है भविष्य?

एक्सपर्ट्स के मुताबिक मौजूदा समय में क्रिप्टो मार्केट के भविष्य को लेकर स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता है. यश के मुताबिक लांग टर्म में क्रिप्टो और मजबूत हो सकता है. हालांकि उन्होंने निवेशकों को अभी क्रिप्टो में एक साथ अधिक पूंजी के निवेश से बचने की सलाह दी है और एसआईपी (सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान) जैसे विकल्पों पर भी गौर करने की सलाह दी है. मीनल के मुताबिक एसआईपी के जरिए निवेश से क्रिप्टो के भाव में भारी उतार-चढ़ाव से जुड़े रिस्क को भी कम करने में मदद मिलेगी.

मीनल के मुताबिक अगर आप लंबे समय के लिए क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना चाहते हैं तो अपने क्रिप्टो एसेट्स को स्टोर करने के लिए हार्डवेयर एसेट्स पर गौर करना चाहिए. हालांकि अगर शॉर्ट टर्म के लिए या छोटी पूंजी निवेश कर रहे हैं तो एक भरोसेमेंद एक्सचेंज बेहतर विकल्प होगा. मीनल के मुताबिक अगर पोर्टफोलियो छोटा है तो क्रिप्टो एसेट्स को एक्सचेंज वॉलेट से हार्डवेयर वॉलेट में ले जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस ट्रांसफर में निश्चित फीस भी चुकानी होती है. हालांकि अगर क्रिप्टो में निवेश की गई पूंजी अधिक है तो इसे ट्रांसफर करना बेहतर है. मीनल के मुताबिक एक वॉलेट से दूसरे में ट्रांसफर के लिए ट्रांजैक्शन चार्ज फिक्स होता है.

Cryptocurrency में भारी गिरावट, जानिए यह पैसा बनाने का मौका या खतरे की घंटी

Bitcoin सबसे बड़ी क्रिप्टो है

  • नई दिल्ली,
  • 15 जनवरी 2022,
  • (अपडेटेड 15 जनवरी 2022, 6:30 PM IST)
  • Bitcoin नवंबर में था 68,000 डॉलर के पार
  • 40,000 डॉलर से नीचे आया बिटकॉइन

पिछले कुछ दिनों में क्रिप्टोकरेंसी मार्केट (Cryptocurrency Market) में काफी अधिक गिरावट का सेंटिमेंट देखने को मिला है. इस वजह से इंवेस्टर्स इस बात को लेकर काफी चिंता में नजर आ रहे हैं कि उन्हें क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) में इंवेस्ट करना चाहिए या नहीं. क्रिप्टो मार्केट नए साल की शुरुआत से ही लगातार गिर रहा है. महंगाई दर, लिक्विडिटी और US Fed Reserve के अगले कदम को लेकर आशंकाओं के कारण कई प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी में डबल डिजिट की गिरावट आ चुकी है.

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 427