RBI On Cryptocurrency: क्रिसमस के मौके पर 2013 में रिजर्व बैंक ने क्रिप्टोकरंसी से जुड़े खतरों क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? को लेकर नोट जारी किया था। इसमें क्रिप्टोकरंसी से वित्तीय, लीगल और सिक्योरिटी से जुड़े मुद्दों को खतरा होने की बात कही गई थी। यह नोट दुनिया की पहली क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन लॉन्च होने के करीब 4 साल बाद आया था। उसके बाद से अब तक इन 8 सालों में रिजर्व बैंक का क्रिप्टोकरंसी के प्रति रवैया लगातार सख्त ही होता गया है।

Bitcoin Investment : बिटकॉइन में निवेश करना चाहते हैं, जानिए क्या है तरीका

crypto

क्रिप्टोकरेंसी के प्रमुख एक्सचेंज
बिटकॉइन में क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के जरिए निवेश किया जा सकता है। वजीरएक्स (WazirX), कॉइनडीसीएक्स (Coindex), जेबपे Zebpay, कॉइनस्विच कुबेर (Coin Switch Kuber) और यूनोकॉइन UnoCoin इसके प्रमुख एक्सचेंज हैं। वजीरएक्स की स्थापना 2017 में हुई थी। बाद में इसे बिनांस होल्डिंग्स ने इसका अधिग्रहण कर लिया था। ट्रेडिंग वॉल्यूम के लिहाज से यह दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज है। आप वजीरएक्स के जरिए बिटकॉइन में ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं।

कैसे करें निवेश
आपको सबसे पहले क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज (cryptocurrency) में एक अकाउंट खोलना होगा। किसी एक्सचेंज में अकाउंट खोलने के लिए सबसे पहले आपको रजिस्ट्रेशन या साइन-अप करना होगा। इसके लिए आपको अपनी डिटेल डालनी होगी। इमेल वेरिफिकेशन और अकाउंट सिक्योरिटी सेटअप के बाद आपको देश का नाम सुनना होगा। अकाउंट सेलेक्ट करने के बाद आपको इसमें पैसा ट्रांसफर करना होगा। फिर आप बिटकॉइन खरीद सकते हैं।

बिटकॉइन में सिप से निवेश

Coin Sets एक निश्चित थीम पर आधारित टोकन का एक बास्केट है, क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? जिसे क्रिप्टो टीम द्वारा मैनेज और रि-बैलेंस किया जाता है। इसे म्यूचुअल फंड की तरह आसान बनाया गया है, ताकि यूजर्स एक ही क्लिक में क्रिप्टो करेंसी में निवेश कर सकें। निवेशक इसके जरिए इस बात की चिंता किए बिना कि खरीदने के लिए सटीक टोकन क्या है और कितना खरीदना है, निवेश कर सकते हैं। आप कॉइन सेट्स को इंडेक्स फंड की तरह समझ सकते हैं। इस वजह से बहुत से निवेशकों में यह शक है कि क्या वे म्यूचुअल फंड के जरिए क्रिप्टो में निवेश कर सकते हैं?

क्रिप्टो में निवेश भुनाने का मौका मिलेगा

पूंजी बाजार नियामक सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने कहा है कि घरेलू म्यूचुअल फंड क्रिप्टो रिलेटेड प्रोडक्ट में तब तक निवेश नहीं कर सकते जब तक भारत में डिजिटल एसेट के लिए कोई कानून सामने नहीं आ जाता। क्रिप्टो पर रेगुलेशन को लेकर सरकार का रुख क्या रहता है, यह देखा जाना अभी बाकी है, लेकिन इतना साफ़ है कि जिन यूजर ने क्रिप्टो में निवेश किया है उन्हें क्रिप्टो से एग्जिट करने का मौका अवश्य मिल सकता है।

इन्वेस्को ने की थी ब्लॉकचेन फंड की घोषणा

हाल में ही घरेलू म्यूच्यूअल फंड कंपनी इंवेस्को ने एक ब्लॉकचेन फंड लांच करने की घोषणा की थी। कंपनी का यह फंड उन कंपनियों में निवेश करने की योजना बना रहा था जो ब्लॉकचेन इको सिस्टम का पार्ट है। यह फंड वास्तव में भारतीय निवेशकों को विदेशी बाजार में सूचीबद्ध नए जमाने की कंपनियों में निवेश का विकल्प उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहा था। कुछ वजह से इंवेस्को म्युचुअल फंड ने अपने ब्लॉकचेन फंड को वापस ले लिया है।

निर्मला ने दी थी सफाई

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने एक महीने पहले संसद के शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) के दौरान लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि बिटकॉइन को भारत की मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है। वित्त मंत्री ने लिखित क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? जवाब में यह भी कहा था कि सरकार बिटकॉइन लेनदेन पर डेटा एकत्र नहीं करती है। सांसद सुमलता अंबरीश और डीके सुरेश ने पूछा कि, 'क्या सरकार के पास देश में बिटकॉइन को मुद्रा के क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव है?' इस पर वित्त मंत्री ने कहा था- नहीं सर।

3. अपनी रिसर्च पर भरोसा करें

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट को लेकर अकसर कहते हैं कि 'इस बारे में कोई कुछ नहीं जानता है.' हालांकि, फिर भी मार्केट में ढेरों मार्केट एनालिटिक्स, ट्रेंड एक्सपर्ट्स और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर हैं, जो आपको क्रिप्टो मार्केट पर स्ट्रेटजी और टिप्स देते हुए मिलेंगे. लेकिन आपके लिए जरूरी है कि आप हर किसी की बात पर भरोसा न करें, अपनी रिसर्च को देखें और अपने पर्सनल फाइनेंस को देखते हुए स्ट्रेटजी बनाएं.

क्रिप्टो निवेश में शुरुआत करते वक्त ध्यान रखें कि शुरुआती चरण में एक ही क्रिप्टो के साथ स्टिक करें. इधर-उधर पैर फैलाने की कोशिश न करें. क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में जबरदस्त उतार-चढ़ाव देखा जाता है, ऐसे में यही स्मार्ट होगा कि आप छोटे निवेश से शुरू करें. एक ही क्रिप्टो में निवेश करें और मार्केट की चाल को सीखें. जब थोड़ा कॉन्फिडेंट हो जाएं तब अपना निवेश बढ़ाएं.

5. थोड़ा धैर्य रखें

क्रिप्टोकरेंसी मार्केट की वॉलेटिलिटी यानी अस्थिरता के बारे में जितना चेताया जाए, उतना कम है. ऐसे में यह जरूरी है कि आप थोड़ा धैर्य रखें. मार्केट की चाल अच्छी है या बुरी, बदल जाएगी. हमेशा ठंडे दिमाग से रणनीति के तहत फैसले लें.

blockchain

6. एक नई ईमेल ID रखना बेहतर

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग, क्रिप्टो एक्सचेंज पर या peer-to-peer नेटवर्क पर होती है. प्लेटफॉर्म्स पर ट्रेडिंग के लिए आपको ईमेल आईडी के जरिए अकाउंट खोलना पड़ता है. डेटा सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है कि आप क्रिप्टो का अपना पूरा निवेश और ट्रेडिंग वगैरह एक दूसरे आईडी पर रखें. इसके लिए एक अलग ईमेल क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? आईडी बना लें.

क्रिप्टोकरेंसी को ऑनलाइन और ऑफलाइन वॉलेट में स्टोर किया जा सकता है. नए निवेशकों के लिए ऑनलाइन वॉलेट बेस्ट होता है, हालांकि, इसमें हैकिंग का डर ज्यादा होता है. ऐसे में दोनों वॉलेट को अच्छी तरह समझ लें और जो फिट लगे, वो चूज़ करें.

8. मोबाइल वॉलेट में अपनी पूरी करेंसी स्टोर न करें

इसमें कोई दोराय नहीं है कि मोबाइल वॉलेट्स बहुत ही सुविधाजनक होते हैं, लेकिन इनका हैक होना भी बहुत आसान होता है. ऐसे में कभी भी अपनी पूरी क्रिप्टोकरेंसी मोबाइल वॉलेट में स्टोर न करें.

चूंकि क्रिप्टोकरेंसी पर किसी संस्था का नियमन नहीं होता है, ऐसे में इससे होने वाले प्रॉफिट पर आपको भारी टैक्स देना पड़ सकता है. ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी निवेश और टैक्स को लेकर देश में क्या नियम हैं, वो सब जानने के बाद ही निवेश शुरू करें.

क्रिप्टो को सुरक्षित स्थान पर करें होल्ड

अगर आप ट्रेडिंग नहीं कर रहे हैं तो अपने क्रिप्टो को सुरक्षित स्थान पर रखना सही है. जैसे कि लांग टर्म में पैसे लगाने पर क्रिप्टो को हार्डवेयर वॉलेट्स में रखें. ब्लॉकचेन आधारित आइडेंटिटी मैनेजमेंट प्लेटफॉर्म अर्थआईडी (EarthID) के वाइस प्रेसिडेंट (रिसर्च) शरत चंद्र के मुताबिक इन्हें रखने के लिए सबसे सुरक्षित ठिकाना सेल्फ-होस्टेड, नॉन-कस्टोडियल वॉलेट्स हैं. चंद्र के मुताबिक डिजिटल एसेट्स की कुंजी अपने पास रखना बेहतर है और इसका बैकअप भी रखें.

आज नए वित्त वर्ष 2023 में नए टैक्स रूल्स लागू हो गए हैं. क्रिप्टो निवेशकों को ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए जिससे वे कर अधिकारियों के रडार पर आ जाएं. चंद्र के मुताबिक क्रिप्टो निवेशकों को टैक्स छिपाने को लेकर कोई कदम नहीं उठाना चाहिए और ऐसे लोगों से भी दूर रहना चाहिए जो इसकी सलाह देते हैं.

Investment in Crypto Currencies: BitCoin में निवेश का स्टेपवाइज प्रॉसेस, इन तीन चार्जेज के बारे में भी जानकारी है जरूरी

Investment in Crypto Currencies: BitCoin में निवेश का स्टेपवाइज प्रॉसेस, इन तीन चार्जेज के बारे में भी जानकारी है जरूरी

दुनिया भर में निवेशकों के बीच बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टो करेंसी में निवेश को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है.

Investing in Crypto Currencies: भारत समेत दुनिया भर में निवेशकों के बीच बिटक्वाइन (BitCoin) जैसी क्रिप्टो करेंसी में निवेश को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है. पिछले कुछ वर्षों में इसने निवेशकों को शानदार रिटर्न दिया है. क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी है जिसे कंप्यूटर पर जटिल समीकरणों को हल कर माइन किया जाता है. इसे माइन करने वाले यानी माइनर्स को रिवार्ड के तौर पर क्रिप्टो करेंसी मिलती है लेकिन जिन्हें तकनीकी समझ नहीं है, वे भी क्रिप्टो हासिल कर सकते हैं. जिस प्रकार कंपनी के शेयरों की बीएसई और एनएसई जैसे एक्सचेंजों पर खरीद-बिक्री होती है, वैसे ही क्रिप्टो एक्सचेंजों पर बिटक्वाइन जैसे क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? क्रिप्टो की खरीद-बिक्री होती है यानी कि आपको अगर बिटक्वाइन में निवेश करना है तो किसी एक्सचेंज पर जाकर आसानी से इसमें पैसे लगा सकते हैं.

इस प्रकार कर सकते हैं क्रिप्टो में निवेश

क्रिप्टों में निवेश के लिए वजीरएक्स (WazirX), क्वाइनडेक्स (Coindex), जेबपे Zebpay, क्वाइनस्विच कुबेर (Coin Switch Kuber) और यूनोकॉइन UnoCoin जैसे एक्सचेंज हैं. क्रिप्टो में निवेश के लिए पहले आपको एक्सचेंज की साइट पर जाकर पर्सनल डिटेल्स के जरिए रजिस्ट्रेशन करना होगा.

Paytm: निवेशकों के डूब चुके हैं 1.10 लाख करोड़, साबित हुआ देश क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? का सबसे खराब आईपीओ, शेयर का क्‍या है फ्यूचर

ये IPO बना ‘ब्‍लॉकबस्‍टर’, पैसा लगाने वालों की दोगुनी हो सकती है दौलत, झुनझुनवाला फैमिली के पास 3.91 करोड़ शेयर

क्रिप्टो ट्रेडिंग पर ये हैं चार्जेज

  • एक्सचेंज फीस: क्रिप्टो खरीद या बिक्री ऑर्डर को पूरा करने के लिए एक्सचेंज फीस चुकानी होती है. भारत में अधिकतर क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज का फिक्स्ड फीस मॉडल है, लेकिन ट्रांजैक्शन की फाइनल कॉस्ट उस प्लेटफॉर्म पर निर्भर होती है जिस पर ट्रांजैक्शन पूरा हुआ है. ऐसे में इसे लेकर बेहतर रिसर्च करनी चाहिए कि कौन सा क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज सबसे कम ट्रांजैक्शन फीस ले रहा है. फिक्स्ड फीस मॉडल के क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? अलावा क्रिप्टो एक्सचेंज में मेकर-टेकर फी मॉडल भी है. क्रिप्टो करेंसी बेचने वाले को मेकर कहते हैं और इसे खरीदने वाले को टेकर कहते हैं. इस मॉडल के तहत ट्रेडिंग एक्टिविटी के हिसाब से फीस क्या यह बिटकॉइन में निवेश करने लायक है? चुकानी होती है.
  • नेटवर्क फीस: क्रिप्टोकरेंसी माइन करने वालों को नेटवर्क फीस चुकाई जाती है. ये माइनर्स शक्तिशाली कंप्यूटर्स के जरिए किसी ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करते हैं और ब्लॉकचेन में जोड़ते हैं. एक्सचेंज का नेटवर्क फीस पर सीधा नियंत्रण नहीं होता है. अगर नेटवर्क पर भीड़ बढ़ती है यानी अधिक ट्रांजैक्शन को वेरिफाई और वैलिडेट करना होता है तो फीस बढ़ जाती है. आमतौर पर यूजर्स को थर्ड पार्टी वॉलेट का प्रयोग करते समय ट्रांजैक्शन फीस को पहले से ही सेट करने की छूट होती है. लेकिन एक्सचेंज पर इसे ऑटोमैटिक एक्सचेंज द्वारा ही सेट किया जाता है ताकि ट्रांसफर में कोई देरी न हो. जो यूजर्स अधिक फीस चुकाने के लिए तैयार हैं, उनका ट्रांजैक्शन जल्द पूरा हो जाता है और जिन्होंने फीस की लिमिट कम रखी है, उनके ट्रांजैक्शन पूरा होने में कुछ समय लग सकता है. माइनर्स को इलेक्ट्रिसिटी कॉस्ट और प्रोसेसिंग पॉवर के लिए यह फीस दी जाती है.
  • वॉलेट फीस: क्रिप्टो करेंसी को ऑनलाइन बैंक खाते के समान एक डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है. अधिकतर वॉलेट में क्रिप्टो करेंसी के डिपॉजिट और स्टोरेज पर कोई फीस नहीं ली जाती है, लेकिन इसे निकालने या कहीं भेजने पर फीस चुकानी होती है. यह मूल रूप से नेटवर्क फीस है. अधिकतर एक्सचेंज इन-बिल्ट वॉलेट की सुविधा देते हैं. क्रिप्टो वॉलेट्स सिस्टमैटिक क्रिप्टो करेंसी खरीदने का विकल्प देते हैं और इसके इंटीग्रेटेड मर्चेंट गेटवे के जरिए स्मार्टफोन व डीटीएस सर्विसेज को रिचार्ज कराया जा सकता है.
रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 111