Key Points

प्रतिबंध के बावजूद नए तरीकों से बढ़ रहे हैं क्रिप्टो-एक्सचेंज

आरबीआई ने अप्रैल में जारी किये एक सर्कुलर द्वारा भारतीय बैंकों को क्रिप्टो करेंसी विनियमनों (crypto-currency exchanges) को डील करने से प्रतिबंधित कर दिया था। लेकिन कई नए तरीकों के माध्यम से इन विनियमनों में अभी भी बढ़ोतरी हो रही है। यथा- क्रिप्टो-टू-क्रिप्टो ट्रेडिंग प्लेटफॉर्मों के माध्यम से परिवर्तन या विनियामकीय कार्रवाई से बचने हेतु विदेशों में बेस शिफ्टिंग करना।

Google Crypto Wallet क्या है? इसका क्या उपयोग हो सकता है?

Google Crypto Wallet क्या है? इसका क्या उपयोग हो सकता है?

Google crypto wallet एक ऐसा ऐप है जो क्रिप्टो करेंसी उपयोगकर्ताओं को अपनी डिजिटल संपत्ति को स्टोर और पुनर्प्राप्त करने की अनुमति देता है। पारंपरिक मुद्रा की तरह, आपको अपना नकद खर्च करने के लिए वॉलेट की आवश्यकता नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से इसे एक ही स्थान पर रखने में मदद करता है। जब कोई उपयोगकर्ता क्रिप्टो करेंसी प्राप्त करता है, जैसे कि बिटकॉइन, तो वह इसे एक क्रिप्टो करेंसी वॉलेट में संग्रहीत कर सकता है और वहां से लेनदेन करने के लिए इसका उपयोग कर सकता है।

एक क्रिप्टो करेंसी वॉलेट सॉफ्टवेयर का एक टुकड़ा है जो वितरित लेजर के लिए क्रिप्टो करेंसी लेनदेन पर डिजिटल रूप से हस्ताक्षर करने के लिए उपयोग की जाने वाली गुप्त कुंजी का ट्रैक रखता है। क्योंकि ये कुंजियाँ डिजिटल संपत्ति के स्वामित्व को साबित करने का एकमात्र तरीका हैं – और उन लेनदेन को निष्पादित करने के लिए जो उन्हें स्थानांतरित करते हैं या उन्हें किसी तरह से बदलते हैं – वे क्रिप्टो करेंसी पारिस्थितिकी तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

यह “क्रिप्टो वॉलेट” के रूप में बेहतर जाना जाता है, वे ब्लॉकचेन कार की चाबी की तरह हैं। उन चाबियों के बिना, कार नहीं चलेगी। और उनके बिना, डिजिटल संपत्ति के स्वामित्व को साबित करने का कोई तरीका नहीं होगा – बिटकॉइन से लेकर किसी प्रकार की संपत्ति का प्रतिनिधित्व करने वाले टोकन तक कुछ भी।

Google crypto wallet वैसे ही ऐप हैं जैसे आप स्मार्टफोन या कंप्यूटर पर चला सकते हैं। यदि आप वॉलेट रखने का स्पर्शपूर्ण अनुभव पसंद करते हैं, तो आप एक भौतिक उपकरण भी खरीद सकते हैं जो वॉलेट ऐप चलाता है।

पहला क्रिप्टो करेंसी वॉलेट सतोशी नाकामोटो द्वारा पेश किया गया था जब उन्होंने पहली बार 2009 में बिटकॉइन प्रोटोकॉल जारी किया था। बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली क्रिप्टोकरेंसी है, लेकिन इसकी ब्लॉकचेन तकनीक पर निर्माण करने वाले अन्य लोग उभरे हैं, और उनमें से किसी को भी एक क्रिप्टोक्यूरेंसी वॉलेट पर संग्रहीत किया जा सकता है। . वॉलेट में कई क्रिप्टोकरेंसी हो सकती हैं।

जब आप क्रिप्टो करेंसी प्राप्त करना चाहते हैं, चाहे इसे मुद्रा विनिमय में खरीदकर या उपहार के रूप में या राजस्व के रूप में प्राप्त करके, आप प्रेषक को वॉलेट द्वारा जारी एक अद्वितीय क्रिप्टोग्राफ़िक पते पर निर्देशित करते हैं। आप बटुए पर संग्रहीत अपनी क्रिप्टो करेंसी को उसी तरह से चित्रित कर सकते हैं जैसे फाइलें यूएसबी ड्राइव पर संग्रहीत की जाती हैं, लेकिन वास्तव में, वॉलेट में संग्रहीत जानकारी केवल ब्लॉकचैन पर आपके नकदी के स्थान की ओर इशारा करती है, सार्वजनिक खाता बही जो सभी लेनदेन को रिकॉर्ड और प्रमाणित करता है एक क्रिप्टोकरेंसी के लिए, वह नहीं। वॉलेट के साथ खर्च करना रिटेलर के क्यूआर कोड को स्कैन करने या रिटेलर के सार्वजनिक पते पर एक विशिष्ट मात्रा में क्रिप्टो करेंसी को निर्देशित करने जितना आसान है।

Google Crypto Wallet

इस Google क्रिप्टो वॉलेट एप्लिकेशन के विशाल बहुमत का उपयोग बिटकॉइन, एथेरियम, रिपल या लिटकोइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को स्टोर करने के लिए किया जाता है, सॉफ्टवेयर सामानों, वित्तीय परिसंपत्तियों, प्रतिभूतियों और सेवाओं का प्रतिनिधित्व करने वाले फ़ंजिबल और अपूरणीय डिजिटल टोकन की कुंजी भी संग्रहीत कर सकता है।

  • उदाहरण के लिए, क्रिप्टो वॉलेट में संग्रहीत एक टोकन संगीत कार्यक्रम या हवाई जहाज के टिकट, अद्वितीय कलाकृति या आपूर्ति श्रृंखला में सामान का प्रतिनिधित्व कर सकता है – वस्तुतः कुछ भी इससे जुड़ा डिजिटल मूल्य।
  • विकेन्द्रीकृत सर्वसम्मति तंत्र के साथ सभी वितरित बहीखाता क्षमता सुरक्षा मॉडल पर भरोसा करते हैं, जिसका अर्थ है कि एक एन्क्रिप्शन कुंजी का अधिकार – एक लेनदेन पर एक डिजिटल हस्ताक्षर के साथ सिद्ध – लेनदेन का प्रतिनिधित्व करने वाली कार्रवाई को अधिकृत करता है।
  • “तो एक वितरित लेज़र पर मॉडलिंग किए गए किसी भी एप्लिकेशन के लिए उपयोगकर्ताओं को उन वॉलेट्स की आवश्यकता होती है जो वे उस एप्लिकेशन के लिए काम करने वाले लेनदेन पर हस्ताक्षर करने के लिए उपयोग करते हैं,” हसबी ने कहा। बिटकॉइन के लिए, लेन-देन सिर्फ बिटकॉइन को दूसरी एन्क्रिप्शन कुंजी में स्थानांतरित करता है और इसलिए दूसरे मालिक को आपूर्ति श्रृंखला जैसी चीज़ों के लिए, वे ऐसे लेन-देन पर हस्ताक्षर करते हैं जो प्रबंधित की जा रही संपत्ति को ट्रैक करते हैं (जैसे, इलेक्ट्रॉनिक पुर्जे, कच्चे माल, आदि)।”
  • भविष्य में एक नई, “भरोसेमंद” वैश्विक अर्थव्यवस्था ब्लॉकचेन और क्रिप्टो वॉलेट पर आधारित हो सकती है जो व्यक्तिगत वित्तीय या पेशेवर इतिहास, कर जानकारी, चिकित्सा जानकारी, या उपभोक्ता प्राथमिकताओं से लेकर कर्मचारी या भागीदार डिजिटल पहचान बनाए रखने और एप्लिकेशन को नियंत्रित करने वाले निगमों तक सब कुछ सक्षम करती है।
  • ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, जन्म प्रमाण पत्र, सामाजिक सुरक्षा / चिकित्सा क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट के प्रकार कार्ड, मतदाता पंजीकरण जानकारी और मतदान रिकॉर्ड जैसे पारंपरिक पहचान दस्तावेजों के डिजीटल प्रतिनिधित्व को क्रिप्टो वॉलेट में भी संग्रहीत किया जा सकता है, जिससे मालिकों को यह नियंत्रित होता है कि किसके पास पहुंच है।

फिर भी सलाह यही रहेगी कि इसमें निवेश करने से पहले जोखिमों का सटीक नहीं तो कम से कम अंदाजा वाला आंकलन जरूर कर लें। अगर आपको यह देखने के लिए इसका परीक्षण करना है कि यह क्या है, तो अपनी स्थिति का आकार छोटा रखें और जितना आप खो सकते हैं उससे अधिक न डालें।

By jaanoindia

Hello friends, I am “Swati Jain” and i'm graduated in journalism from Mumbai University. I like to write essays and articles on Indian history, accomplishments and achievements. You will see all my articles are about curiosity around India.

क्रिप्‍टो बाजार में नया-नया आजमाना चाहते हैं हाथ तो छोटे निवेशक ऐसे करें शुरुआत, समझें पूरा नफा-नुकसान

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी में करीब 40 हजार करोड़ रुपये का निवेश है.

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी में करीब 40 हजार करोड़ रुपये का निवेश है.

अगर आप कुछ सावधानी वाले तरीकों का पालन करते हैं, तो आप कम से कम पैसे के साथ भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने में सक्षम . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : April 17, 2022, 16:07 IST

नई दिल्‍ली. क्या क्रिप्टोकरेंसी एक अच्छा निवेश है? यह क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सबसे अधिक पूछे जाने वाले सवालों में से एक है. निवेश करने के लिए हर किसी के पास बड़ी रकम नहीं होती है. शुक्र है कि क्रिप्टो एक ऐसा निवेश विकल्प है जिसका उपयोग सीमित वित्तीय संसाधनों वाले लोग भी कर सकते हैं. यह धारणा कि पैसा बनाने के लिए आपको बहुत अधिक पैसे की जरूरत होती है, पूरी तरह गलत है. देश के जाने माने क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज वजीरएक्‍स के सीईओ व सह-संस्‍थापक निश्चल शेट्टी बता रहे कि छोटे और नए निवेशकों को यहां हाथ आजमाने के लिए क्‍या सावधानी रखनी चाहिए.

छोटे पैमाने से करें शुरुआत
शेयर बाजार की तरह क्रिप्टो बाजार भी अस्थिर है, जिसका अर्थ है कि परिसंपत्ति की कीमतों में तेजी से बदलाव आएगा. लिहाजा क्रिप्टोकरेंसी में केवल यह सुनिश्चित करने के बाद निवेश करें कि आपके पास बिना कोई कर्ज लिए कम से कम छह महीनों के खर्च के लिए पर्याप्त पूंजी है.

किस क्रिप्टोकरेंसी को खरीदना है
हां, बाजार में कई तरह की क्रिप्टोकरेंसी हैं. दूसरों को देखकर पांच अलग-अलग क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना अच्छा विचार नहीं है. सही क्रिप्टोकरेंसी चुनने के लिए आपको काफी शोध की जरूरत होगी. समाचारों पर नज़र रखें, प्रदर्शन करने वाली शीर्ष पांच क्रिप्टोकरेंसी की सूची बनाएं और निवेश से पहले उनकी ग्रोथ पर नजर रखें.

सबसे विश्वसनीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज चुनें
भारत में क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए सर्वोत्तम क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों की पूरी सूची की जांच करें, जिसमें लेनदेन लागत, फायदे और नुकसान शामिल हैं. इन एक्सचेंजों को विशेष रूप से क्रिप्टोकरेंसी और उनकी अस्थिर प्रकृति का प्रबंधन करने के लिए तैयार किया गया है. ठीक उसी तरह जैसे बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान उधार देने, उसे बनाए रखने और मॉर्गेज के जरिए पूंजी मुहैया कराने के लिए बने हैं.

एक क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट चुनें
क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट एक प्रकार का सॉफ्‍टवेयर है जो आपकी निजी और सार्वजनिक जानकारियों को जुटाता है और ब्लॉकचेन से जोड़ता है, जहां आपकी क्रिप्टो संपत्ति जमा होती है. दुर्भाग्य से बहुत से लोग क्रिप्टोकरेंसी वॉलट को क्रिप्टोकरेंसी स्टोरेज समझ लेते हैं. ब्लॉकचेन पर क्रिप्टोकरेंसी तक पहुंचने के लिए आपको एक क्रिप्‍टो एड्रेस मुहैया कराया जाता है.

रुपये की औसत लागत
किसी भी क्रिप्‍टोकरेंसी में निवेश करते समय हमें रुपये की औसत लागत की गणना जरूर करनी चाहिए. इसके जरिये कोई निवेशक यह जान सकता है कि करेंसी में लगाए पैसे पर उसे समय के साथ क्‍या रिटर्न मिल रहा और यह निवेश की लागत के अनुपात में कितना कम या ज्‍यादा है. अभी बिटक्‍वॉइन को रुपये की औसत लागत के हिसाब से सबसे बेहतर माना गया है, लेकिन आगे भी इसका प्रदर्शन ऐसे ही जारी रहेगा, इसकी कोई गारंटी नहीं है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

नियामकीय कसौटियों पर कसें तो सपने बेच रहीं क्रिप्टो परिसंपत्तियां

नौ वर्ष पहले मैंने लिखा था कि इलेक्ट्रॉनिक मुद्राएं जल्दी ही सरकार और मौद्रिक प्राधिकार के लिए चिंता का विषय होंगी। मैंने पूछा था कि कर प्रशासन बिटकॉइन लेनदेन का पता कैसे लगाएगा? क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल करने वाली छिपी पूंजी का इस्तेमाल रोकने के लिए विदेशी एक्सचेंजों तथा अन्य नियमन में किस प्रकार बदलाव करने होंगे? क्या बिटकॉइन से करवंचना आसान हो जाएगी और सरकार की राजकोषीय नीतियां प्रभावित होंगी? बाद के वर्षों में क्रिप्टो परिसंपत्तियों क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट के प्रकार ने स्वयं को हमारे वित्तीय माहौल के साथ समायोजित किया लेकिन बतौर मुद्रा अपनी संभावनाओं के साथ नहीं। संभवत: बदलाव का अहम क्षण तब आया जब चीन ने 2017 में पूंजी के बहिर्गमन के बाद स्थानीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों के खिलाफ सफलतापूर्वक कार्रवाई की। 2016 में 725 अरब डॉलर की राशि चीन से बाहर गई और नियामकों ने ध्यान दिया कि क्रिप्टोकरेंसी की व्यापक उपलब्धता पूंजी नियंत्रण के प्रयास बाधित करेगी। जिन देशों में क्रिप्टोकरेंसी को वैध माना जाता है वहां भी वास्तव में वे मुद्रा नहीं हैं। आप उनके जरिये खरीद बिक्री नहीं कर सकते। क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट और नियमित वित्तीय व्यवस्था को जोडऩे के उपाय प्रभावी नहीं रहे। अमेरिका में बड़े एक्सचेंजों पर आपकी क्रिप्टो परिसंपत्ति से डेबिट कार्ड जुड़ सकते हैं लेकिन उनसे लेनदेन में विफलता ज्यादा हाथ लगती है और उन पर शुल्क भी अधिक लगता है। बिटकॉइन में लेनदेन दरअसल 2017 से कम हो रहा है।

मुद्रा के तीन इस्तेमाल हैं: विनिमय का माध्यम, मूल्य संधारण और लेखा इकाई। क्रिप्टोकरेंसी विनिमय के माध्यम के रूप में उपयोगी नहीं हैं लेकिन लेखा इकाई के रूप में तो उनकी स्थिति और खराब है। उनके मूल्य में बहुत तेज उतार-चढ़ाव होता है। मूल्य संधारण के कारण ही क्रिप्टोकरेंसी का अस्तित्व अब तक बना हुआ है। उदाहरण के लिए गोल्डमैन सैक्स ने जनवरी में कहा था कि बिटकॉइन अब मूल्य के मामले में सोने से होड़ कर रही है और मूल्य के मामले में 20 फीसदी बाजार पर उसका कब्जा है। परंतु अस्थिरता की समस्या बरकरार है। सर्वाधिक स्थिर क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन भी सोने की कीमत की तुलना में पांच गुना अस्थिर है। जेपी मॉर्गन के विश्लेषक मानते हैं कि यदि बिटकॉइन भी सोने के समान अस्थिर होती तो एक बिटकॉइन की कीमत डॉलर की तुलना में उसके मौजूदा मूल्य का साढ़े तीन गुना होती।

हालांकि तब से अब तक हम लंबा सफर तय कर चुके हैं। जेपी मॉर्गन निजी बैंकिंग के निवेश नीति के चेयरमैन माइकल सेंबालेस्ट ने इस माह एक रिपोर्ट जारी की जिसने मूल्य संधारण की दलील में कई खामियां उजागर कीं। पहली बात तो यह कि हमारे पास बॉन्ड, जिंस, इक्विटी या अचल संपत्ति की तरह क्रिप्टोकरेंसी के लिए कोई मूल्य निर्धारण मॉडल तक नहीं है। अभी तक क्रिप्टो से जुड़ी हर बात विशुद्ध अटकलबाजी है और उनकी कीमतों के पीछे कोई ठोस तर्क नहीं है। आश्चर्य नहीं कि क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े अहम नियामकीय प्रश्न सामने हैं। पहला, व्यापक वित्तीय बाजारों को ऐसी सटोरिया गतिविधियों से जुड़े जोखिम से कैसे बचाया जाएगा, दूसरा, खुदरा उपभोक्ताओं को पूरी तरह सटोरिया गतिविधि पर आधारित बाजार से कैसे बचाया जाएगा और तीसरा, ऐसी गतिविधियों से कुछ लोगों को होने वाले लाभ से कैसे निपटा जाएगा? हमें भारत में हालिया घटनाक्रम को वैश्विक संदर्भों में देखना होगा। उदाहरण के लिए क्रिप्टो से जुड़े विज्ञापनों को लेकर चिंता जाहिर की है। एक वर्ष से ये विज्ञापन देश में छाये हुए हैं। सिंगापुर और स्पेन तक ऐसे विज्ञापनों के नियमन पर विचार कर रहे हैं ताकि धोखाधड़ी और खुदरा निवेशकों का जोखिम कम किया जा सके।

इसके बाद वृहद स्थिरता का मसला है। गत अक्टूबर में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की वैश्विक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में चेतावनी दी गई थी कि क्रिप्टोकरेंसी की व्यापक और तेज स्वीकार्यता से अर्थव्यवस्थाओं को तब दिक्कत शुरू हो सकती है जब नागरिक स्थानीय मुद्रा के बजाय क्रिप्टो परिसंपत्तियों का इस्तेमाल शुरू कर देंगे। इससे वित्तीय स्थिरता को भी जोखिम पैदा हो सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक ने भले इन दिक्कतों के बारे में न सोचा हो लेकिन अन्य उभरते देशों के बैंक ऐसा कर रहे हैं।

अंत में, करों का प्रश्न आता है। हालिया बजट में आभासी डिजिटल परिसंपत्तियों को पूंजीगत लाभ मानते हुए कर लगाने की बात कही गई है। इसमें क्रिप्टोकरेंसी से अर्जित आय शामिल है। सिलिकन वैली के कई प्रमुख लोगों समेत विभिन्न जानकारों ने कहा कि ऐसा करके भारत बिटकॉइन को वैधानिक बना रहा है। अन्य लोगों ने कहा कि यह क्रिप्टो व्यवस्था के लिए एक जीत है। ऐसा कुछ नहीं है। अधिकांश जगहों पर अभी भी अवैध उपक्रमों से अर्जित आय पर कर लगता है। अमेरिकी आंतरिक राजस्व सेवा का पब्लिकेशन 17 करदाताओं को याद दिलाता है कि अगर वे कोई संपत्ति चुराते हैं तो भी उन्हें चोरी के वर्ष की आय में उसका उचित बाजार मूल्य दर्शाना होगा। यह भी लिखा गया है कि अवैध मादक पदार्थों की सौदेबाजी से हुई आय आदि को भी दर्शाना होगा। आंतरिक राजस्व सेवा करदाताओं को ऐसी आय घोषित करने को कहकर इन गतिविधियों को वैधानिक नहीं बनाता। प्रधानमंत्री ने हाल ही में विश्व आर्थिक मंच को संबोधित करते हुए कहा क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट के प्रकार था कि क्रिप्टो नियमन का वैश्विक हल निकालना होगा। संभवत: यह सही उत्तर है, खासकर वैश्विक वित्तीय स्थिरता, कर आधार को नुकसान तथा पूंजी के बहिर्गमन पर इसके असर को देखते हुए। यह कहना मुश्किल है कि दुनिया के नेता इस विषय को कब और कैसे हल करेंगे। इस बीच क्रिप्टो तंत्र को अपने पक्ष में दलील देनी होगी। ब्लॉकचेन आधारित तकनीक बिना क्रिप्टो के सार्वजनिक कारोबार के आगे बढ़ सकती है। ऐसे में क्रिप्टो की आगे बढऩे की दलील क्या है? यह किफायत, वृद्धि या वित्तीय समावेशन को कैसे आगे बढ़ाएगा? ऐसा इसलिए कि इस प्रश्न के बहुत कम आश्वस्त करने वाले उत्तर हैं और यही कारण है कि क्रिप्टो को घोटाला और सटोरिया कारोबार मानने वाले आज तर्क के क्षेत्र में जीत रहे हैं।

Block Chain MCQ Quiz in हिन्दी - Objective Question with Answer for Block Chain - मुफ्त [PDF] डाउनलोड करें

Key Points

  • एक निजी ब्लॉकचेन एक ब्लॉकचेन नेटवर्क है जो एक सीमित संदर्भ में संचालित होता है, जैसे कि एक बंद नेटवर्क, या एक एंटिटी द्वारा नियंत्रित किया जाता है।
  • इंटरनेट का उपयोग करने वाला कोई भी व्यक्ति अधिकृत नोड बनने के लिए ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म पर साइन इन कर सकता है, और एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन गैर-प्रतिबंधित और अनुमति रहित है।
  • रियल एस्टेट हाइब्रिड ब्लॉकचैन के लिए कई अप्रतिरोध्य उपयोग के मामलों में से एक है। सार्वजनिक रूप से कुछ जानकारी जैसे लिस्टिंग का विवरण करते हुए कंपनियां सिस्टम को सुरक्षित रूप से चलाने के लिए हाइब्रिड ब्लॉकचेन का उपयोग कर सकती हैं।
  • ब्लॉकचैन का चौथा रूप, जिसे फ़ेडरेटेड ब्लॉकचैन के रूप में जाना जाता है, एक हाइब्रिड ब्लॉकचैन के समान है जिसमें यह निजी और सार्वजनिक ब्लॉकचैन क्षमताओं को जोड़ती है।

Trusted by 3.4 Crore+ Students

Block Chain Question 4:

ब्लॉकचेन तकनीक के क्या लाभ हैं?

  1. कोई छिपी हुई फीस नहीं
  2. धोखाधड़ी नियंत्रण और पहुंच स्तर
  3. सुरक्षा और गति
  4. उपरोक्त सभी

Answer (Detailed Solution Below)

Block Chain Question 4 Detailed Solution

सही उत्तर विकल्प 4 है।

संकल्पना:

ब्लॉकचेन तकनीक:

ब्लॉकचेन जानकारी को इस तरह से संग्रहीत करने का एक तरीका है कि सिस्टम को संपादित करना, हैक करना या छल करना मुश्किल या असंभव है। एक ब्लॉकचेन केवल लेनदेन का एक डिजिटल रिकॉर्ड है जिसे पूरे ब्लॉकचेन के कंप्यूटर सिस्टम के पूरे नेटवर्क में दोहराया और वितरित किया जाता है।

ब्लॉकचेन तकनीक के लाभ:

  • सुरक्षा बढ़ाना
  • बढ़ी हुई गति
  • धोखाधड़ी नियंत्रण और पहुंच स्तर
  • कोई छिपी हुई फीस नहीं
  • बेहतर पारदर्शिता
  • ट्रू ट्रेसबिलिटी
  • बेहतर गति और अत्यधिक कुशल

अतः सही उत्तर उपरोक्त सभी है।

Trusted by 3.4 Crore+ Students

Block Chain Question 5:

ब्लॉकचेन तकनीक के स्तंभ क्या हैं?

  1. पारदर्शिता
  2. अपरिवर्तनीयता
  3. विकेन्द्रीकरण
  4. उपरोक्त सभी

Answer (Detailed Solution Below)

Block Chain Question 5 Detailed Solution

सही उत्तर विकल्प 4 है।

संकल्पना:

ब्लॉकचेन तकनीक:

ब्लॉकचेन डेटा को इस तरह से संग्रहीत करने की एक विधि है कि इसे बदलना, हैक करना या धोखा देना मुश्किल या असंभव है। ब्लॉकचेन लेन-देन का एक डिजिटल लॉग है जिसे ब्लॉकचेन के कंप्यूटर सिस्टम के पूरे नेटवर्क में कॉपी और वितरित किया जाता है।

ब्लॉकचेन के तीन स्तंभ:

विकेंद्रीकरण:

विकेंद्रीकरण की वास्तविक परिभाषा एक केंद्रीय प्राधिकरण की अनुपस्थिति है। यदि हम इस धारणा को ब्लॉकचैन पर लागू करते हैं, तो यह इंगित करता है कि नेटवर्क स्वशासी है और उसके पास केंद्रीय प्राधिकरण नहीं है।

पारदर्शिता:

वास्तविक जीवन में, पारदर्शिता ऐसी किसी भी चीज़ को संदर्भित करती है जिसमें कोई अस्पष्टता नहीं होती है। जब हम इस धारणा को ब्लॉकचेन पर लागू करते हैं, तो इसका मतलब है कि कोई गोपनीयता नहीं है। अधिक विशिष्ट होने के लिए, जब लेन-देन की बात आती है, तो सभी लेनदेन सार्वजनिक होते हैं और नेटवर्क पर सभी के द्वारा पढ़ा जा सकता है।

अपरिवर्तनीयता:

अपरिवर्तनीय का तात्पर्य ठीक वैसा ही है जैसा वास्तविक जीवन में लगता है: ऐसा कुछ जिसे बदला नहीं जा सकता। जब हम ब्लॉकचेन के बारे में बात करते हैं, तो हम इस तथ्य का जिक्र कर रहे हैं कि एक बार सिस्टम में लेनदेन प्रकाशित हो जाने के बाद, इसे बदला नहीं जा सकता है।

रेटिंग: 4.54
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 471