Bank Jobs 2023 : बैंकिंग सेक्टर में 25000 पदों पर निकली बंपर भर्ती

Bank Jobs 2023 बैंकिंग सेक्टर में Govt Bank Jobs एवं प्राइवेट बैंक जॉब के तलाश कर रहे भारत के सभी राज्यों के ग्रेजुएट एवं पोस्ट ग्रेजुएट बेरोजगार उम्मीदवारों के लिए विभिन्न पदों पर Latest Banking Recruitment 2023 पाने का सुनहरा मौका, हाल ही में भारत में संचालित बैंकों के अंतर्गत विभिन्न पदों पर भर्ती हेतु Government Jobs नोटिफिकेशन आमंत्रित किया है। बैंकिंग सेक्टर जॉब्स 2023 के लिए योग्य एवं इच्छुक अभ्यार्थी जो Banking Sector Exam 2023 की तैयारी कर रहे अंतिम तिथि से पहले निर्धारित प्रारूप में Bank Sarkari Naukri आवेदन फॉर्म प्रस्तुत कर सकते हैं। Bank Jobs 2023 से जुड़ी महत्वपूर्ण इंफॉर्मेशन नीचे तालिका पर जांच कर सकते हैं।

Banking Sector Exam

Bank Recruitment 2023 आधिकारिक घोषणाओं के बाद तत्काल Sarkari Bank Bharti 2023 नोटिफिकेशन प्राप्त कर सकते हैं। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक / निजी बैंक में Bank Recruitment 2023 For Freshers चाहने वालों को आवेदन करने और उनकी पसंद के नौकरी में पाने के लिए उपयुक्त विकल्प प्राप्त करने के लिए हमारे Sarkariprep Jobs Portal पर स्वागत किया जाता है। नवीनतम जानकारी को www.sarkariprep.in वेबसाइट से देखा जा सकता है। हमारे वेबसाइट के माध्यम से Banking Sector Jobs 2023 प्रकाशित किए जाने वाले सभी बैंकों की Government Banking Jobs एवं Private Bank Vacancy 2023 सबसे पहले अपडेट प्राप्त कर सकते हैं।

Faq Bank Jobs 2023

प्रश्न 1 : सरकारी प्रेप में बैंक जॉब कैसे खोजें?

उत्तर : सबसे पहले गूगल में sarkariprep.in सर्च करें उसके बाद हमारे वेबसाइट के होमपेज में मेनू आईकॉन को क्लिक करके बैंक सरकारी नौकरी नोटिफिकेशन प्राप्त कर सकते हैं।

प्रश्न 2 : बैंकिंग सेक्टर में क्या क्या नौकरी मिलती है?

उत्तर : बैंकिंग सेक्टर में जॉब की तलाश कर रहे उम्मीदवारों को क्लर्क, प्रोबेशनरी ऑफिसर, विशेषज्ञ अधिकारी, अपरेंटिस, प्रबंधक एवं अन्य पदों पर जॉब मिलती है।

प्रश्न 3 : सरकारी प्रेप जॉब पोर्टल वेबसाइट क्यों?

उत्तर : क्योंकि सरकारी प्रेप सरकारी नौकरी पोर्टल भारत एवं भारत के सभी राज्यों की बैंकिंग सेक्टर रोजगार समाचार सबसे पहले उपलब्ध कराता है।

प्रश्न 4 : सरकारी प्रेप नोटिफिकेशन कैसे प्राप्त कर सकते हैं?

उत्तर : सरकारी प्रेप सरकारी नौकरी नोटिफिकेशन आप हमारे वेबसाइट एवं सोशल मीडिया जैसे:- व्हाट्सएप ग्रुप, फेसबुक पेज, ट्विटर, युटुब चैनल के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।

अभी तक नहीं लगवाई Covid Booster Dose तो ऐसे बुक करें स्लॉट, कोरोना के नए वेरिएंट से रहेंगे सुरक्षित

How to book Covid Booster Dose: भारत में एक बार फिर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार भी अलर्ट हो गई है। अगर आपने अभी तक कोरोना की बूस्टर डोज नहीं लगवाई है तो तुरंत स्लॉट बुक कर डोज लगवा लें।

Updated Dec 22, 2022 | 11:46 AM IST

अगर आप भी शेयर करते हैं Netflix, Amazon Prime के पासवर्ड, इस वजह से लगाने पड़ सकते हैं कोर्ट के चक्कर

Ram Setu Movie Online: ओटीटी पर रिलीज हुई अक्षय कुमार की राम सेतु, जानें कहां मिल रहा फ्री देखने का मौका

अभी तक नहीं लगवाई Covid Booster Dose तो ऐसे बुक करें स्लॉट, कोरोना के नए वेरिएंट से रहेंगे सुरक्षित

How to book Covid Booster Dose: विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण चीन और दुनिया के कई प्रमुख देशों में कोरोना का खतरा फिर से मंडराने लगा है। कई देशों में हालत बदतर हैं। भारत में भी कोरोना के हालातों को देखते हुए केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने सीनियर अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की और PM मोदी आज दोपहर 3:30 बजे कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। उत्तर प्रदेश, दिल्ली के अलावा समस्त राज्य सरकारें भी अलर्ट मोड में आ गई हैं। देश में BF-7 वैरिएंट के 4 केस मिले हैं।

भारत में कोरोना का टीका (Corona विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण Vaccine) काफी पहले आ चुका और अधिकांश जनसंख्या को कोरोना टीके की दो डोज लग चुकी हैं। इसके बाद सरकार ने खतरे को देखते हुए बूस्टर डोज की भी सुविधा दी थी। हालांकि बहुत कम लोगों ने ही कोविड का बूस्टर डोज नहीं लिया है। अगर आपने अभी तक कोरोना की बूस्टर डोज नहीं लगवाई है तो तुरंत स्लॉट बुक कर डोज लगवा लें। यहां जानें कोविड बूस्टर डोज बुक करने का तरीका। भारतीय नागरिक जो टीकाकरण की तीसरी खुराक के लिए पात्र हैं, वे CoWIN पोर्टल के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

  • कोविड बूस्टर डोज रजिस्ट्रेशन करने के लिए सबसे पहले आपको को-विन की आधिकारिक वेबसाइट यानी cowin.gov.in पर जाना होगा।
  • को-विन पोर्टल पर आपको रजिस्टर / साइन इन का विकल्प मिलेगा। इस पर क्लिक करें और आगे चलें।
  • यहां आपको मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। मोबाइल नंबर दर्ज करें और विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण GET OTP के विकल्प पर टैप करें।
  • ओटीपी के स्थान पर मोबाइल पर आए ओटीपी को भरें और वेरिफाई करें।
  • इसके बाद बूस्टर डोज स्लॉट बुक ऑप्शन पर जाएं और अपने नजदीकी वैक्सीनेशन सेंटर और उचित समय का चुनाव करें।

 70 -

कोविडः 70% भारतीयों ने नहीं लगवाई बूस्टर डोज, मांडविया बोले- खत्म नहीं हुआ है कोरोना

3 80

3 साल पहले नए साल के जश्न के समय ही फैला था कोरोना, एक बार फिर वैसा हाल,क्या 80 करोड़ हो जाएंगे संक्रमित

देश और दुनिया की ताजा ख़बरें (Hindi News) अब हिंदी में पढ़ें | यूटिलिटी (utility-news News) की खबरों के लिए जुड़े रहे विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण Timesnowhindi.com से | आज की ताजा खबरों (Latest Hindi News) के लिए Subscribe करें टाइम्स नाउ नवभारत YouTube चैनल

रु. 50,000 का पर्सनल लोन

अपनी पर्सनल एसेट को सुरक्षित रखें, क्योंकि लोन प्राप्त करने के लिए किसी भी कोलैटरल की आवश्यकता नहीं है.

आसान डॉक्यूमेंट

रु. 50,000 के इस पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते समय केवल बे‍सिक डॉक्यूमेंट जमा करके एप्लीकेशन को आसान बनाएं.

अवधि 84 महीनों तक

84 महीनों तक की अवधि में पुनर्भुगतान का विकल्प चुनकर अपने मासिक भुगतान को आसान बनाएं. पहले से प्लान करने के लिए पर्सनल लोन ईएमआई कैलकुलेटर का उपयोग करें.

सुविधाजनक फ्लेक्सी सुविधा

हमारे फ्लेक्सी पर्सनल लोन के साथ अवधि के शुरुआती हिस्से में केवल-ब्याज़ की ईएमआई का भुगतान करने पर अपनी ईएमआई को 45%* तक कम करें.

विशेष ऑफर

मौजूदा कस्टमर बस कुछ क्लिक में रु. 50,000 का पर्सनल लोन प्राप्त कर सकते हैं. बस अपना नाम और संपर्क जानकारी जैसे विवरण दर्ज करके अपना प्री-अप्रूव्ड लोन ऑफर चेक करें.

आसान लोन मैनेजमेंट

हमारे कस्टमर पोर्टल मेरे अकाउंट से तुरंत पिछली ईएमआई, ब्याज दरों और पुनर्भुगतान शिड्यूल के बारे में जानकारी प्राप्‍त करें.

कोई छिपे शुल्क नहीं

हमारे स्पष्ट नियम व शर्तों को पढ़कर अपने रु. 50,000 के इंस्टेंट पर्सनल लोन से संबंधित शुल्क जानें.

बजाज फिनसर्व से रु. 50,000 के पर्सनल लोन के साथ, आप स्पीड और सुविधा दोनों का अनुभव कर सकते हैं. हमारी एप्लीकेशन प्रोसेस आसान है और आपको सिक्योरिटी के रूप में किसी भी एसेट को गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं है. इसलिए, आप सरल ऑनलाइन फॉर्म का उपयोग करके न्यूनतम पेपरवर्क के साथ तनाव-मुक्त होकर अप्लाई कर सकते हैं. रु. 50,000 के पर्सनल लोन के लिए पात्रता मानदंड भी पूरा करना आसान है. एक बार आपका एप्लीकेशन अप्रूव हो जाने के बाद, हम तेज़ डिस्बर्सल करते हैं. अप्रूवल के 24 घंटों* के भीतर पैसे ट्रांसफर किए जाते हैं, ताकि आप आराम से तत्काल ज़रूरतों को पूरा कर सकें.

हमारे आसान लोन मैनेजमेंट पोर्टल की मदद से आप सभी आवश्यक जानकारियों को ट्रैक कर सकते हैं और अपने लोन को ऑनलाइन मैनेज कर सकते हैं. हमारे लोन की शर्तें आसान हैं और हम कोई भी छिपा हुआ शुल्क नहीं लेते हैं, जिसके कारण आप सभी जानकारियों के साथ अपने पुनर्भुगतान को आसानी से प्लान कर सकते हैं.

ओपी राजभर के तेवर नरम, छोटे दलों को सपा में दिखीं संभावनाएं, यूपी निकाय चुनाव के बाद क्या है तैयारी

ऐसे कयास भी लगाए जा रहे हैं कि सपा यदि उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनावों में ठीक-ठाक प्रदर्शन करती है तो 2024 में होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले कुछ गैर भाजपा दल अखिलश के साथ लामबंद हो सकते हैं।

ओपी राजभर के तेवर नरम, छोटे दलों को सपा में दिखीं संभावनाएं, यूपी निकाय चुनाव के बाद क्या है तैयारी

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में डिंपल यादव की जीत और अखिलेश यादव व शिवपाल यादव के बीच घनिष्ठता के बाद छोटे दलों और असंतुष्टों के साथ पूर्व सहयोगियों को सपा में एक बार फिर संभावनाएं दिखने लगी हैं। ऐसे कयास भी लगाए जा रहे हैं कि सपा यदि उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनावों में ठीक-ठाक प्रदर्शन करती है तो 2024 में होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले कुछ गैर भाजपा दल अखिलश यादव के साथ लामबंद हो सकते हैं।

मैनपुरी उपचुनाव में डिंपल की जबरदस्त जीत के बाद शुक्रवार को बदायूं के पूर्व विधायक आबिद रजा जहां पार्टी में दोबारा शामिल हो गए, वहीं सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने सपा के प्रति अपने तेवर में नरमी के संकेत देते हुए कहा कि शिवपाल सिंह यादव पहल करेंगे तो हमारी सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से फिर से बातचीत हो सकती है।

राजनीतिक विश्लेषक और शिक्षक विपिन बिहारी श्रीवास्तव ने 'पीटीआई-भाषा' से बातचीत में कहा, “मैनपुरी उपचुनाव और यादव परिवार की एकजुटता ने भाजपा के समानांतर भविष्य तलाशने वालों की उम्मीद जगा दी है और अगर सपा ने निकाय चुनावों में ठीक-ठाक प्रदर्शन किया तो लोकसभा चुनावों के लिए छोटे दल फिर सपा के साथ आने को आतुर होंगे।” उन्होंने कहा कि अखिलेश और शिवपाल की निकटता को निकाय चुनाव की कसौटी पर खरा उतरना होगा और इस चुनाव के बाद 2024 के लोकसभा चुनाव की भी दिशा तय हो जाएगी।

गौरतलब है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सुभासपा, महान दल, अपना दल (कमेरावादी) और जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) जैसे छोटे दलों ने सपा नीत गठबंधन के तहत चुनाव लड़ा था। अपना दल (कमेरावादी) को छोड़कर इनमें से बाकी सभी दलों ने विधानसभा चुनाव के बाद सपा से दूरी बना ली थी, लेकिन मैनपुरी में सपा की जीत के बाद इन दलों में एक बार फिर हलचल बढ़ गई है।

दस अक्टूबर 2022 को सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई मैनपुरी संसदीय सीट पर हुए उपचुनाव में डिंपल ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी एवं भाजपा प्रत्याशी रघुराज सिंह शाक्य को 2.88 लाख से अधिक मतों से हराया। 2019 के लोकसभा चुनाव में मुलायम ने मैनपुरी से करीब 90 हजार मतों के अंतर से चुनाव जीता था।

माना जा रहा है कि अखिलेश और शिवपाल के बीच मतभेद समाप्त होने और यादव परिवार की एकजुटता ने ही सपा के पक्ष में माहौल बनाया। राजनीतिक जानकार यही दावा कर रहे हैं कि अगर यादव परिवार की एकजुटता बनी रही तो लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा ही भाजपा के मुख्य विकल्प के रूप में उभरेगी।

यही वजह है कि पिछले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के सहयोगी रह चुके राजभर 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर सपा में संभावनाएं तलाशने में जुट गए हैं। इस सिलसिले में जब राजभर से बातचीत की गई तो उन्होंने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, “हां, बिल्कुल! बात करने में क्‍या दिक्‍कत है। कोई खेत-मेड़ का झगड़ा तो है नहीं, राजनीति में कौन किसका दुश्मन है।”

अपनी बात को बल देने के लिए राजभर ने बिहार में जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद), कश्मीर में भाजपा और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) और उत्तर प्रदेश में 2019 में सपा और बसपा के बीच हुए गठबंधन का उदाहरण भी दिया।

राजभर ने दावा किया, “हम निकाय चुनाव अकेले अपने दम पर लड़ेंगे, लेकिन 2024 के लोकसभा चुनाव में किसी न किसी से गठबंधन जरूर करेंगे।” यह पूछे जाने पर कि क्या सपा के किसी नेता ने सुभासपा से हाथ मिलाने की पहल की है, उन्होंने कहा कि अभी किसी ने कोई पहल नहीं की है।

सियासी गलियारों में अटकलें लगाई जा रही हैं कि राजभर जैसे छोटे दलों के नेता निकाय चुनाव में सपा की स्थिति का आकलन करेंगे और परिणाम के हिसाब से ही 2024 के चुनाव के लिए अपनी दिशा तय करेंगे।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बहुत जल्द नगर निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होने की संभावना है। राज्‍य में 17 नगर निगम, 200 नगर पालिका परिषद और 545 नगर पंचायतों में महापौर, अध्यक्ष और सभासदों के चयन के लिए मतदान होना है। विधानसभा चुनाव के बाद हुए विधान परिषद चुनाव में टिकट न मिलने से जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) के अध्यक्ष डॉ. संजय चौहान सपा से खफा हो गए थे, लेकिन अब वह फिर पार्टी के साथ आ गए हैं।

2019 में सपा के चिह्न पर चंदौली से लोकसभा चुनाव लड़ चुके डॉ. चौहान विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण ने 'पीटीआई-भाषा' से बातचीत में स्वीकार किया, “विधान परिषद के चुनाव में मौका न मिलने से सपा से थोड़ी दूरी हो गई थी, लेकिन अब हम अखिलेश जी के साथ हैं और निकाय चुनाव में सपा का समर्थन करेंगे।”

उन्होंने कहा, “लोग भाजपा से धीरे-धीरे ऊबने लगे हैं। मुझे लगता है कि 2024 में सपा को ठीक-ठाक सफलता मिलेगी। हालांकि, महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव देव मौर्य ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा, “हम लोग (छोटे दल) मुख्‍य खिलाड़ी नहीं हैं और मुख्‍य खिलाड़ी (बड़े दल) अभी पत्ते नहीं खोल रहे हैं। ऐसे में हम किसके साथ जाएंगे, इसे लेकर खूब तुक्केबाजी चल रही है।”

अखिलेश के साथ दोबारा तालमेल बैठाने की संभावनाओं पर मौर्य ने कहा, “देखिए, अखिलेश यादव से ही नहीं, भाजपा से, कांग्रेस से, बसपा से, सभी से गठबंधन की संभावनाएं हैं। जब हम अपनी बदौलत एक भी सीट जीत नहीं सकते तो विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण किसी न किसी का सहारा तो लेंगे ही। अब सहारा कौन देगा, यह उन पर (बड़े दलों पर) निर्भर करता है।”

महान दल के विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण नेता ने कहा, “पहल बड़े दलों को करनी है और अगर कोई हमें बुलाता ही नहीं है तो हम गठबंधन के लिए तैयार होकर भी क्‍या करेंगे।” उन्होंने संकेत दिया कि वह मौके का इंतजार कर रहे हैं।
इस बारे में पूछे जाने पर सपा के राष्ट्रीय सचिव और मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा, “सपा ही भाजपा की एकमात्र विकल्प है। अखिलेश जी सक्षम हैं। लोगों को यह अच्छी तरह से मालूम है।” उन्होंने उम्मीद जताई कि देर से ही सही, लेकिन बहुत से लोग सपा में आएंगे। हालांकि, जब ओमप्रकाश राजभर से गठबंधन की संभावनाओं के बारे में पूछा गया तो चौधरी ने कहा कि उनके बारे में अखिलेश जी ही तय करेंगे।

विशेषज्ञ विकल्प में पंजीकरण कैसे करें

 ExpertOption पर खाता कैसे खोलें और पैसे जमा करें

2022 में ExpertOption ट्रेडिंग कैसे शुरू करें: शुरुआती लोगों के लिए चरण-दर-चरण गाइड

ताज़ा खबर

 IQ Option पर पैसे कैसे जमा करें

IQ Option पर पैसे कैसे जमा करें

 IQ Option पर आपको लगता है कि 6 ट्रेडिंग मिथक सच हैं I

IQ Option पर आपको लगता है कि 6 ट्रेडिंग मिथक सच हैं I

 IQ Option पर खाते का पंजीकरण और सत्यापन कैसे करें

IQ Option पर खाते का पंजीकरण और सत्यापन कैसे करें

लोकप्रिय समाचार

 Binary.com की समीक्षा

Binary.com की समीक्षा

 Binarycent की समीक्षा

Binarycent की समीक्षा

 IQcent की समीक्षा

IQcent की समीक्षा

लोकप्रिय श्रेणी

DMCA.com Protection Status

यह प्रकाशन एक विपणन संचार है और निवेश सलाह या अनुसंधान का गठन नहीं करता है। इसकी सामग्री हमारे विशेषज्ञों के सामान्य विचारों का प्रतिनिधित्व करती है और व्यक्तिगत पाठकों की व्यक्तिगत परिस्थितियों, निवेश के अनुभव या वर्तमान वित्तीय स्थिति पर विचार नहीं करती है।

Download Android App Download iOS App

सामान्य जोखिम अधिसूचना: इस वेबसाइट पर सूचीबद्ध कंपनी द्वारा पेश किए जाने वाले व्यापारिक उत्पाद उच्च स्तर का जोखिम उठाते हैं और इसके परिणामस्वरूप आपके सभी फंड नष्ट हो सकते हैं। आपको यह विचार करना चाहिए कि क्या आप अपना पैसा खोने का उच्च जोखिम उठा सकते हैं। व्यापार का निर्णय लेने से पहले, आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप अपने निवेश के उद्देश्यों और अनुभव के स्तर को ध्यान में रखते हुए जोखिमों को समझते हैं।

रेटिंग: 4.12
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 574